life insurence kya hai 21

 लाइफ इंश्यरेंस kya hai


जीवन बीमा का तात्पर्य है किसी अप्र्याशित घटना को भरपाई करने हेतु बीमा प्रदाता और बीमित व्यक्ति के बीच होने वाले कॉन्ट्रेक्ट से है। अर्थात जीवन बीमा में बीमा प्रदाता बीमित व्यक्ति को एक गारंटी देता है क्षतिपूर्ति की किसी भी अप्रयक्षित घटना होने पर।


जीवन बीमा से लाभ


जीवन बीमा का फाइनेंशियल टर्म में कई लाभ है सबसे बड़ा लाभ है लाइफ कवर अर्थात आपके जाने के बाद भी परिवार को जीवन बीमा प्रदाता द्वार सुरक्षा मिलता है।


जीवन बीमा का दूसरा लाभ है अत्यधिक ब्याज लाभ और टैक्स की बचत।जीवन बीमा चूंकि लंबे अंतराल तक के लिए होता है। अतः सरकार के डेरा टैक्स में छूट प्रदान होता है और अधिक समय के investment होने की वजह से ब्याज भी अपेछकृत अधिक मिलता है।


जीवन बीमा की शुरूवात


जीवन बीमा की शुरुआत का कोई प्रामाणिक जानकारी नहीं है

परन्तु आधुनिक जीवन बीमा की सुरवात1663 में हुआ। उस समय सारे व्यपार समुद्री क्षेत्र द्वारा होता था जिसमें कई खतरे थे।


व्यपारियों ने अपने परिवार के वितिय सुरक्षा प्रदान करने के लिए जीवन बीमा की कॉन्सेप्ट की शुरुआत किया।हलकी जीवन बीमा प्राचीनकाल में भी होता था स्युंक्त परिवार की अवधारणा भी एक बीमा का ही स्वरूप है।


जीवन बीमा के प्लान


जीवन बीमा वर्तमान में कई स्वरूपों में विद्यमान है प्रमुख प्लान निम्नलिखित है


1 टर्म जीवन बीमा

2 सेविंग प्लान

3 यूनिट लिंक्ड इंसोरेंस प्लान

4 चाइल्ड प्लान

5 रिटायरमेंट प्लान





टर्म जीवन बीमा प्लान


टर्म जीवन बीमा प्लान शुद्ध जीवन बीमा प्लान है जीवन बीमा प्लान की शुरुआत टर्म इंश्योरेन्स प्लान से ही हुआ है।टर्म जीवन बीमा पालन लेने के लिए सबसे जरूरी है व्यक्ति के पास इनकम प्रूफ होना।अर्थात व्यक्ति के पास इनकम का स्रोत हो।दूसरी शर्त है व्यक्ति को स्वास्थ्य होना।


टर्म जीवन बीमा में व्यक्ति को 80 वर्ष तक या इससे ऊपर तक लाइफ कवर होता है।अर्थात इन समयांतराल के भीतर व्यक्ति के मृत्यु होने पर बीमा प्रदाता उनके नमनी को एक मुस्त निर्धारित सम असुर्ड अमाउंट प्रदान करती है।


जीवन बीमा प्राप्त करने हेतु व्यक्ति को नियमित अंतराल पर एक निश्चित रासी प्रीमियम के रूप में  बीमा प्रदाता के देना होता है। कम उम्र में टर्म इंश्योरेन्स लेने पर कम प्रीमियम देना पड़ता है। अधिक उम्र होने पर अधिक प्रीमियम देना होता है।


सेविंग बीमा प्लान

 

सेविंग जीवन बीमा का उदेश्य है लंबे समय तक सेविंग कर के ज्यादा ब्याज लाभ प्राप्त करना है बीमा में दो तरह के सेविंग प्लान होते है 

1 ट्रेडिशनल

2 नॉन ट्रेडीशनल


ट्रेडिशनल(अंडॉर्मेंट प्लान)


ट्रेडिशनल प्लान सेविंग्स और लाइफ इंश्योरंस का मिश्रण है।जिसने पड़ी धारक को जीवन बीमा और सेविंग्स दोनों ही प्राप्त होता है। इस प्लान में कंपनी द्वारा बोनस भी बीमित व्यक्ति को प्रदान कि जाती है।


जीवन बीमा के रूप में बीमा के समय अंतराल में व्यक्ति को मृत्य होने पर व्यक्ति को निर्धारीत सम एश्योर्ड बोनस के साथ दिया जाता है या समय अंतराल पूरा होने के बाद मेचेयोर्टी रासी प्रदान की जाती है बोनस के साथ।


नान ट्रेडिशनल प्लान


इस प्लान में भी समान लाभ जो उपर बताया गया है के जैसा ही है परंतु इस प्लान में बोनस नहीं मिलता





यूनिट लिंक्ड इंसुरेंस प्लान


यूनिट लिंक्ड इंसुरांस प्लान इन्वेस्टमेंट और बीमा का मिला जुला रूप है। यूनिट लिंक्ड प्लान में बीमित व्यक्ति के द्वारा प्रदान की गायी राशि का कुछ भाग बीमा के लिए तथा शेष रशि को बीमित व्यक्ति को रिस्क लेने के क्षमता के आधार पर इक्यूटी ,फंड और govt.fund इत्यादि में इन्वेस्ट कर दी जाती है । समय समाप्त होने के बाद मेच्योर्टी को व्यक्ति को प्रदान कर दिया जाता है।


चाइल्ड प्लान




जीवन बीमा  technical term


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Nps पेंशन फण्ड मैनेजर चेंज कैसे करें क्या है फायदे ohoo 1

Nps kya hai 21

वित्त के प्रमुख स्रोत क्या है vittiy labh 21